Home प्रदेश बिहार बिहारः बेगूसराय से ताल ठोक रहे कन्हैया के पास मिला न गाड़ी, न घर, कमाई का स्त्रोत है सिर्फ ये….

बिहारः बेगूसराय से ताल ठोक रहे कन्हैया के पास मिला न गाड़ी, न घर, कमाई का स्त्रोत है सिर्फ ये….

Loading...

बेगूसराय। बिहार के बेगूसराय से लोकसभा प्रत्यासी कन्हैया कुमार ने अपनी राजनीति दिल्ली के जेएनयू छात्रसंघ से की थी लेकिन बता दें कन्हैया कुमार पुरी तरह से बेरोजगार हैं और इनके पास न कोई बंगला है और न ही कोई गाड़ी है। इनकी कमाई का मुख्य स्त्रोत इनके द्वारा लिखी गई पुस्तके। बेगूसराय से इन्होंने जो नामांकन का पर्चा भरा है उसके मुताबिक, कन्हैया के पास 24,000 रुपये नगद और बैंक में कुल 3,57,848 रुपये बचत के तौर पर है।

उनके पास कोई कृषि योग्य भूमि तक नहीं है। कन्हैया एक अचल संपत्ति के मालिक हैं, जो बेगूसराय के बिहट में उनका पैतृक घर है। हालांकि इस घर में उनके परिवार के अन्य सदस्यों (भाई-बहन) की भी हिस्सेदारी है। हलफनामे में इस घर की कीमत दो लाख रुपये बताई गई है। जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया ने हलफनामे में कहा है कि उनकी सालाना आय 8़ 5 लाख रुपये है। उनकी आय का मुख्य साधन उनकी लिखी पुस्तकें और विभिन्न संस्थानों में दिए गए व्याख्यान हैं।

हलफनामे के मुताबिक, कन्हैया पर धार्मिक सद्भाव बिगाड़ने, सरकारी काम में बाधा पहुंचाने, अनाधिकृत सभा करने और देशद्रोह से संबंधित पांच आपराधिक मामले दर्ज हैं, जो अभी लंबित हैं। उल्लेखनीय है कि कन्हैया ने पिछले दिनों क्राउड फंडिंग के माध्यम से अब तक 70 लाख रुपये से ज्यादा की राशि जुटाई है। बेगूसराय में कन्हैया का मुख्य मुकाबला राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के उम्मीदवार भाजपा नेता गिरिराज सिंह से है। हालांकि राजद के तनवीर हसन इस मुकाबले को त्रिकोणात्मक बनाने का हरसंभव प्रयास कर रहे हैं। नामांकन दाखिल करने के दौरान कन्हैया ने एक रोडशो किया था, जिसमें भारी संख्या में लोग मौजूद थे।

Load More Related Articles
Load More In बिहार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

मऊ में समाधान दिवस के आयोजन के मौके पर नाराज लेखपालों ने किया कार्यबहिष्कार, दी ये चेतावनी

मऊ : जिले के सदर तहसील पर मंगलवार को समाधान दिवस का आयोजन किया गया। लेकिन एसडीएम अंकुर लाठ…