Home समाचार मुख्य समाचार इस वजह से अमेठी-रायबरेली में मुश्किल होगी राहुल को जितना, सामने है ये बड़ी वजह…

इस वजह से अमेठी-रायबरेली में मुश्किल होगी राहुल को जितना, सामने है ये बड़ी वजह…

Loading...

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को उसी के गढ़- अमेठी और रायबरेली में बीजेपी घेरने की रणनीति पर काफी समय से लगी हुई है. यहाँ तक की सपा-बसपा गठबंधन ने इन दोनों लोकसभा सीटों पर कांग्रेस के खिलाफ अपने उम्मीदवार न उतारने की फैसला करके राहुल गांधी और सोनिया गांधी की सियासी राह को आसान बना दिया था. लेकिन, बुधवार को कांग्रेस की महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा का भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर से मुलाकात करने के बाद राजनीतिक समीकरण बदल सकते हैं.

2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने राहुल को अमेठी में घेरने की कवायद की थी, जिसके चलते कांग्रेस को अपना किला बचाने में पसीने छूट गए थे. माना जा रहा है कि सपा-बसपा गठबंधन अब अपनी रणनीति में बदलाव करते हुए उम्मीदवार न उतारने का मन बदल गया है. अगर गठबंधन ने अमेठी में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और रायबरेली में सोनिया गांधी के खिलाफ अपने उम्मीदवार उतारती तो कांग्रेस को अपने गढ़ को बचाने में लोहे के चने चबाने पड़ सकते हैं.

अमेठी और रायबेरली दोनों सीटों पर दलित और ओबीसी खासकर यादव समुदाय के मतदाता अच्छे खासे हैं. अमेठी में मुस्लिम मतदाता करीब 4 लाख के करीब हैं. जबकि रायबरेली में तीन लाख के करीब यादव हैं. जानकार मानते हैं कि सपा-बसपा गठबंधन ने अगर कांग्रेस के खिलाफ चुनावी मैदान में उतरने का कदम उठाते हैं तो इन वोटरों में बिखराव होने की संभावना बढ़ जाती है. ऐसे में कांग्रेस के जीत की राह बिगड़ सकती है.

सपा नेता और पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष रामसिंह यादव ने कहा कि सपा-बसपा गठबंधन रायबरेली और अमेठी में चुनावी मैदान में उतरते तो कांग्रेस के लिए ये सीटें जीतना आसान नहीं होगा. दोनों सीटों पर जातीय समीकरण गठबंधन के पक्ष में है, ऐसे में सपा-बसपा ने कांग्रेस को इन सीटों पर संजीवनी दी है. 2012 के विधानसभा चुनाव में सपा रायबरेली की चार सीटें जीतने में सफल रही थी और कांग्रेस खाता नहीं खोल पाई थी.

 

Load More Related Articles
Load More In मुख्य समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

मॉक ड्रिल: आतंकवादियों से निपटने को तैयार वाराणसी पुलिस, पैरामिलिट्री फोर्स ने दी स्पेशल ट्रेनिंग !

वाराणसी: लोकसभा चुनाव में पूरे देश में सबसे ज्यादा हॉट सीट वाराणसी की मानी जा रही है वाराण…