Home प्रदेश उत्तर प्रदेश शहीद पति की चिता के सामने खाई थी पत्नी ने कसम-बेटे को भी भेजूंगी सेना में फिर…

शहीद पति की चिता के सामने खाई थी पत्नी ने कसम-बेटे को भी भेजूंगी सेना में फिर…

Loading...

सच ही किसी ने कहाँ है कि खुले आखँ से सपना देखो तो जरुर पूरा होता इस कहावत को जीता जगता उदाहरण उत्तर प्रदेश के कानपुर में देखने को मिला है जहाँ सावित्री सिंह यादव जोकि एक शहीद की पत्नी हैं उनकी कसम पूरी हो गई। इन्होने अपने पति के चिता दृढ़ प्रतिज्ञा ली थी। गोद में ढाई साल के इकलौते बेटे को उठा कहा था- तुम्हारे बेटे को भी सैनिक बनाऊंगी और तुम्हारी शहादत का बदला तुम्हारा बेटा लेगा। सावित्री ने इस प्रतिज्ञा को पूरा कर दिखाया है। आज बेटा उसी शहर में सैन्य प्रशिक्षण ले रहा है, जहां कभी पिता तैनात रह चुके थे।

यूपी की नर्वल तहसील के कस्बा साढ़ स्थित मजरा मिर्जापुर में जन्मे शहीद लांस नायक जय सिंह यादव के परिवार की। पत्नी सावित्री के प्रण और बेटे संजय के संकल्प की। साल 2001 में बारामूला में आ’तंकियों से मुठ’भेड़ में जय सिंह शहीद हो गए थे। तब सावित्री की गोद में छह माह की प्रीती, ढाई साल का इकलौता बेटा संजय और पांच साल की प्रियंका थी। अभी गृहस्थी बसनी शुरू ही हुई थी कि पति की शहादत ने झकझोर दिया। जब शव गांव आया तो पूरा गांव व्याकुल था। सावित्री बेसुध थीं, लेकिन पति की शहादत के गर्व को उन्होंने बेबसी के आंसुओं में बहने नहीं दिया। अपने को मजबूत किया और पति की चिता के सामने संजय को गोद उठा प्रतिज्ञा ली कि उसे सैनिक बनाएंगी।

यह सावित्री के जज्बे की इंतहा ही थी कि महज ढाई साल के बेटे से पति के पार्थिव को मुखाग्नि दिलाई थी। वह आग उनके सीने में तब तक धधकती रही जब तक कि बेटे ने सैनिक की वर्दी न पहन ली। उन्होंने संजय को हर रोज यह याद दिलाया कि उसे अच्छा पढ़ना है। सेना में जाना है। पिता के अधूरे काम को पूरा करना है.। संजय ने भी मां की कसम पूरी करने में कसर नहीं छोड़ी। जीजान से तैयार में लगा रहा। आखिर सावित्री का प्रण पूरा हुआ। संजय ने सेना भर्ती परीक्षा पास की। 5 सितंबर, 2018 को प्रशिक्षण के लिए ज्वाइन किया। वह पुणे स्थित उसी आर्मी सेंटर में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहा है, जहां कभी उसके पिता जय सिंह तैनात रहे थे।

रघुवीर प्रसाद यादव और कामिनी देवी के पुत्र लांस नायक जय सिंह सैन्य इंटेलीजेंस कोर पुणे में तैनात थे। पोस्टिंग बारामुला में थी। सात दिसंबर 2001 को क्षेत्र में आतंकियों के होने की खुफिया सूचना मिली। सर्च ऑपरेशन शुरू हुआ। जल्द ही आतंकियों से आमना-सामना हो गया। जय सिंह ने दो खूंखार आतंकी मार गिराए। उन्हें भी कई गोलियां लगीं और शहीद हो गए।

उन्होंने संजय को हर रोज यह याद दिलाया कि उसे अच्छा पढ़ना है और सेना में जाना है। बेटे संजय ने भी मां की कसम पूरी करने में कसर नहीं छोड़ी। वो भी जी जान से तैयार में लगा रहा। और आखिर सावित्री का प्रण पूरा हुआ जब संजय ने सेना भर्ती परीक्षा पास कर ली। 5 सितंबर, 2018 को प्रशिक्षण के लिए ज्वाइन किया। वह पुणे स्थित उसी आर्मी सेंटर में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहा है, जहां कभी उसके पिता जय सिंह तैनात रहे थे।

संजय को अपने पिता की वीरता और शहादत पर गर्व है। वह पूरी शिद्दत से उनके अधूरे काम को पूरा करना चाहता है। पिता की शहादत का बदला लेना चाहता है।

 

 

Load More Related Articles
Load More In उत्तर प्रदेश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

सिटी बैंक में फ्रॉड कर पैसे लूटने वाली गैंग का पर्दाफाश, हुए गिरफ्तार !

गाजियाबाद : लूटपाट, क्राइम और फ्रॉड की घटनाएँ मानों जैसे आम हो चली हैं | ऐसा ही मामला गाज़ि…